समाज के युवाओ में बढ़ता नशा चिंता का विषय

 समाज के युवाओ में बढ़ता नशा चिंता का विषय 

आज हमारे समाज के युवाओ में बढ़ता नशा एक चिंता का विषय है जो की दिनों दिन बढ़ता ही जा रहा है यदि हमने समय रहते इसे रोकने के प्रयास नहीं किये तो हमारा समाज एक गहरे अंधकार में चला जायेगा क्युकी यह नशा युवाओ की जिंदगी को तबाह तबाह कर देगा तथा हम सिर्फ मूक दर्शक बन कर रह जायेगे।

 


हमारा यह दायित्व बनता की हम इसे रोकने के लिए ठोस कदम उठाये कब हम समाज के प्रति अपने दायित्व को निभाने के लिए आगे आएंगे।

युवा हमारे समाज और देश का भविष्य हैं। यदि युवा वर्ग यदि स्वस्थ, सशक्त व समर्थ होगा तभी तो राष्ट्र भी प्रगति के पथ पर अग्रसर होगा। इसलिए युवा शक्ति का सदुपयोग सृजनात्मक व निर्माण कार्य के लिए हो। युवा वर्ग में नशीले पदार्थो के सेवन की बढ़ती प्रवृति चिंता का विषय है।  युवा देश की रीढ़ होने के नाते मानसिक व शारीरिक रूप से स्वस्थ समाज  और राष्ट्र का निर्माण करने में रचनात्मक सहयोग दें।  

बिश्नोई मिरर  विभिन्न गतिविधियों के माध्यम से युवाओ में अपने आप में छुपी हुयी प्रतिभा को निखारने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए कार्यक्रम आयोजित करवाएगा। बेहतर प्रदशर्न करने वाले युवाओं को पुरस्कृत किया जायेगा  


नशेका दानव शरीर को ही नहीं, समाज और राष्ट्र को भी खोखला कर रहा है। इस बुराई के खिलाफ युवा पीढ़ी को जागरूक किए जाने की जरूरत है।

युवाओं में स्मैक, शराब, भांग, चरस, सिगरेट, तंबाकू, बीड़ी, अफीम आदि का बढ़ता सेवन चिंता का विषय है। हम इस से होने वाले नुकसान जानते हुए भी इनका उपयोग करते रहते हैं। ये सच्च है कि इससे दुखों से क्षणिक छुटकारा मिलने का आभास जरूर होता है पर वास्तव में यह दुख मिटते नहीं हैं। वे तो जस के तस ही रहते हैं पर नशे के सेवन से आर्थिक एवं मानसिक क्षति हो जाती है। ऐसा कर युवा अपने हाथों अपने ही विनाश को आमंत्रित कर रहे हैं। 

हमारा युवाओ से आगृह है की कब आप इस के बारे में अवेयर होंगे यदि युवाओ आप समय रहते अपने आप में सुधार नहीं लाये तो हमारे समाज का नामोनिशान तक नहीं रहेगा कभी हमारा समाज एक आदर्श समाज के रूप में विख्यात था 

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां