The Great Khejarli Scarifice

Before beginning the immortal saga of the sacrifice of the Khejarli movement, I bow to the great social saint Guru Bhagwan Jambheshwar (Jambhoji) Maharaj (1451-1536), the founder of Vishnoi society. He gave 29 rules, the people who follow these rules are called Vishnoi people. He created such a Vishnoi society that would put his life in the cradle of rules !!

“सिर साटे रुख रहे तो भी सस्तो जाण”


For environmental lovers, the above sentence is similar to gold jewelery, and always keeps it in the heart.
Today, in the concern of environmental protection all over the world, various programs are being run at the government and non-government level for environmental consciousness. The consciousness of environment protection and efforts for environmental protection in the Indian public is centuries old. Our scriptures, our social stories and our ethnic traditions connect us to nature. Nature conservation has been a matter of highest priority in our lifestyle.
The sacrifice made by Vishnoi society to protect trees in Khejarli in 1730 is unique in human history.
The incidents of sacrificing life for the protection of nature have unfolded the love of nature in the whole world. Amrita Devi and environmental protector Bishnoi is an event of nature's love for society, which is mentioned in the golden pages in our national history. There is no harm in the world history of the incident in small town Khejarli in Jodhpur state of Rajasthan in 1730

In 1730, Raja Abhay Singh of Jodhpur decided to build a palace. Needing wood for the construction of the new palace, the king ordered Minister Girdhari Das Bhandari to arrange for wood, Minister Girdhari Das Bhandari looked at the village Khejdali, about 25 km from the palace.
Minister Girdhari Das Bhandari and the courtiers together advised the king that in the neighboring village of Khejarli, there are many trees of Khejdi. With the availability of wood there, the king immediately gave his approval. Most of the Bishnois lived in the village of Khejdali. In Bishnois, love for environment and conservation of wildlife has been the main objective of life. Amrita Devi, a 42-year-old woman from the same Bishnoi society devoted to nature in Khejdali village, had three daughters, Asu, Ratni, Bhagu Bai and husband Ramu Khod, who lived in agriculture and animal husbandry.“सिर साटे रूख रहे तो भी सस्तो जाण” In Khejarli, the king's servants first came to cut the khejri tree near Amrita Devi's house, then Amrita Devi stopped them and said, "This khejdi tree is a member of our house, it is my brother, I have tied a rakhi to it, I will not let it bite me. " On this, the king's servants questioned that "You have a relation of religion with this tree, so what is the preparation of you guys to protect it". On this, Amrita Devi and the people of the village declared their resolve “सिर साटे रुख रहे तो भी सस्तो जाण” That is, instead of giving our head, if this tree remains alive, then we are ready for it. On that day, the Raja's staff went to the postponement of tree cutting, but the news of this incident spread quickly in Khejarli and nearby villages.
A few days later, on Tuesday, 21 September 1730 AD (Bhadrapada Shukla Dashami, Vikram Samvat 1787), Minister Girdhari Das Bhandari came with lavalskar before sunrise with full preparation, when the whole village was sleeping. Girdhari Das Bhandari's party first started harvesting the green trees of khejdi near Amrita Devi's house, when hearing the voices, Amrita Devi came out of the house with her three daughters.
He opposed these acts because they were forbidden (banned) in Vishnoi religion. Then the party of Minister Girdhari Das Bhandari asked for money in a bribe in exchange for leaving her tree to Amrita Devi with a malicious gesture. He refused to accept their demand and said that this is a contempt and gross insult to our religious beliefs. He said that better than this, he will give his life to save the green trees. And announced it

And Amrita Devi was the first to cling to the tree while speaking to Guru Jambhoji Maharaj, cutting her neck and beheading her in a moment. Then the three daughters draped from the tree and cut their necks and separated them from the head.

This news spread like a fire in Jagal. People came from 84 villages nearby. They decided with one opinion that a Vishnoi of a tree would sacrifice his life. First of all, the elders sacrificed their lives. Then Minister Girdhari Das Bhandari taunted the Bishnois that they were sacrificing the untrained old people. After that, there was such fury that big, old, young, children, women and men all vied for sacrificing their lives.
The Bishnoi people clung to the trees and sacrificed their lives. After all, Minister Girdhari Das Bhandari had to stop the felling of trees. A total of 363 Bishnois (71 women and 292 men) sacrificed their lives in defense of the tree till this storm came to an end. The land of Khejdali became red with the sacrificial blood of the Bishnois. This historic day of Tuesday 21 September 1730 (Bhadrapada Shukla Dashami, Vikram Samvat 1787) will always be remembered for this unique event in world history.
In the world, no other such incident of emitting your life in tree defense is found. The king was deeply shocked by this incident, he honored the Bishnois with a copper sheet, and declared a ban on felling of trees in the state of Jodhpur and provided punishment for it. This sacrificial work of Bishnoi society will continue to infuse new inspiration and enthusiasm among nature lovers all over the world for many centuries to come. The Bishnoi society is still protecting the khejri trees and wildlife in the desert of Rajasthan by following the teachings of 29 rules of its Guru Jambhoji Maharaj.

Today, "global warming" is a global problem on the globe. The solution to this global problem is possible through environmental protection. Impressed by the incident of the sacrifice of Khejdali by the Bishnoi society and dedication to environmental protection, the present Prime Minister of India, Shri Narendra Modi, gave a glowing appreciation to the Bishnoi community at an event organized in Jodhpur.
Friends, every day the environment is becoming unbalanced due to many reasons. This is the alarm bell for us and for the future generations. We should learn wholeheartedly to cooperate in balancing the environment. So that the incredible sacrifice of our ancestors can become meaningful.






In Hindi -
खेजडली आन्दोलन के बलिदान की अमर गाथा को शुरु करने से पहले मैं विश्नोई समाज के संस्थापक महान सामाजिक संत गुरू भगवान जम्भेश्वर (जांभोजी) महाराज(1451-1536) को नमन करना करता हूँ। उन्होंने 29 नियम बताये, इन  नियमों का पालन करने वाले जन विश्नोई जन कहलाये। उन्होंने ऐसे विश्नोई समाज का निर्माण किया जो नियमों की पालना में अपने प्राणों बाजी लगा दे !!

 “सिर साटे रुख रहे तो भी सस्तो जाण” 
पर्यावरण प्रेमियों के लिए उक्त वाक्य स्वर्णाभूषणों के समान है, तथा इसको हमेशा दिल में सजो कर रखते हैं।
आज सारी दुनिया में पर्यावरण संरक्षण की चिंता में पर्यावरण चेतना के लिये सरकारी और गैर सरकारी स्तर पर विभिन्न कार्यक्रम चलाये जा रहे हैं। भारतीय जनमानस में पर्यावरण संरक्षण की चेतना और पर्यावरण संरक्षण के प्रयासों की परम्परा सदियों पुरानी है। हमारे धर्मग्रंथ, हमारी सामाजिक कथायें और हमारी जातीय परम्परायें हमें प्रकृति से जोड़ती है। प्रकृति संरक्षण हमारी जीवन शैली में सर्वोच्च् प्राथमिकता का विषय रहा है।
सन् 1730 में खेजड़ली में पेड़ों की रक्षा के लिए विश्नोई समाज ने जो बलिदान दिया है वो मानव इतिहास में अद्वितीय है।
प्रकृति संरक्षण के लिये प्राणोत्सर्ग कर देने की घटनाओं ने समूचे विश्व में भारत के प्रकृति प्रेम का परचम फहराया है। अमृता देवी और पर्यावरण रक्षक बिश्नोई समाज की प्रकृति प्रेम की एक घटना हमारे राष्ट्रीय इतिहास में स्वर्णिम पृष्ठों में अंकित है। सन् 1730 में राजस्थान के जोधपुर राज्य में छोटे से गांव खेजड़ली में घटित घटना का विश्व इतिहास में कोई सानी नहीं है।

सन् 1730 में जोधपुर के राजा अभयसिंह द्वारा महल बनवाने का निश्चय किया। नया महल बनाने के कार्य में लकड़ी की आवश्यकता होने से राजा ने मंत्री गिरधारी दास  भण्डारी को लकड़ियों की व्यवस्था करने का आदेश दिया, मंत्री गिरधारी दास  भण्डारी  की नजर महल से करीब 25 किलोमीटर दूर स्थित गांव खेजडली पर पड़ी।

मंत्री गिरधारी दास भण्डारी व दरबारियों ने मिलकर राजा को सलाह दी कि पड़ोस के गांव खेजड़ली में खेजड़ी के बहुत पेड़ है। वहां पर लकड़ी की उपलब्धता होना से राजा ने तुरंत अपनी स्वीकृति दे दी। खेजड़ली गांव में अधिकांश बिश्नोई लोग रहते थे। बिश्नोईयों में पर्यावरण के प्रति प्रेम और वन्य जीव सरंक्षण जीवन का प्रमुख उद्देश्य रहा है। खेजड़ली गांव में प्रकृति के प्रति समर्पित इसी बिश्नोई समाज की 42 वर्षीय महिला अमृता देवी के परिवार में उनकी तीन पुत्रियां आसु, रतनी, भागु बाई  और पति रामू खोड़ थे, जो कृषि और पशुपालन से अपना जीवन-यापन करते थे।
खेजड़ली में राजा के कर्मचारी सबसे पहले अमृता देवी के घर के पास में लगे खेजड़ी के पेड़ को काटने आये तो अमृता देवी ने उन्हें रोका और कहा कि “यह खेजड़ी का पेड़ हमारे घर का सदस्य है यह मेरा भाई है इसे मैंने राखी बांधी है, इसे मैं नहीं काटने दूंगी।” इस पर राजा के कर्मचारियों ने प्रति प्रश्न किया कि “इस पेड़ से तुम्हारा धर्म का रिश्ता है, तो इसकी रक्षा के लिये तुम लोगों की क्या तैयारी है।” इस पर अमृता देवी और गांव के लोगों ने अपना संकल्प घोषित किया “सिर साटे रूख रहे तो भी सस्तो जाण” अर्थात् हमारा सिर देने के बदले यह पेड़ जिंदा रहता है तो हम इसके लिये तैयार है। उस दिन तो पेड़ कटाई का काम स्थगित कर राजा के कर्मचारी चले गये, लेकिन इस घटना की खबर खेजड़ली और आसपास के गांवों में शीघ्रता से फैल गयी।

कुछ दिन बाद मंगलवार 21 सितम्बर 1730 ई. (भाद्रपद शुक्ल दशमी, विक्रम संवत 1787) को मंत्री गिरधारी दास भण्डारी लावलश्कर के साथ पूरी तैयारी से सूर्योदय होने से पहले आये, जब पूरा गाँव सो रहा था। गिरधारी दास भण्डारी  की पार्टी ने सबसे पहले अमृता देवी के घर के पास में लगे खेजड़ी के हरे पेड़ो की कटाई करना शुरु किया तो, आवाजें सुनकर अमृता देवी अपनी तीनों पुत्रियों के साथ घर से बाहर निकली।

उसने ये कृत्य विश्नोई धर्म में वर्जित (प्रतिबंधित) होने के कारण उनका विरोध किया। तब मंत्री गिरधारी दास  भण्डारी की पार्टी ने द्वेषपूर्ण भाव से अमृता देवी को उसके पेड़ छोड़ने के बदले रिश्वत में धन मांगा। उसने उनकी मांग मानने से इन्कार कर दिया और कहा कि ये हमारी धार्मिक मान्यता का तिरस्कार व घोर अपमान है। उसने कहा कि इससे अच्छा तो वह हरे पेड़ो को बचाने के लिये अपनी जान दे देगी। और इसके साथ ही उद्घोष किया  “सिर साटे रुख रहे तो भी सस्तो जाण” और अमृता देवी गुरू जांभोजी महाराज की जय बोलते हुए सबसे पहले पेड़ से लिपट गयी, क्षण भर में उनकी गर्दन काटकर सिर धड़ से अलग कर दिया। फिर तीनों पुत्रियों पेड़ से लिपटी तो उनकी भी गर्दनें काटकर सिर धड़ से अलग कर दिये।

यह खबर जगल में आग की तरह फ़ैल गयी। आस-पास के 84 गांवों के लोग आ गये। उन्होनें एक मत से तय कर लिया कि एक पेड़ के एक विश्नोई लिपटकर अपने प्राणों की आहुति देगा। सबसे पहले बुजुर्गों ने प्राणों की आहुति दी। तब मंत्री गिरधारी दास  भण्डारी ने बिश्नोईयों को ताना मारा कि ये अवांच्छित बूढ़े लोगों की बलि दे रहे हो। उसके बाद तो ऐसा जलजला उठा कि बड़े, बूढ़े, जवान, बच्चे स्त्री-पुरुष सबमें प्राणों की बलि देने की होड़ मच गयी।

बिश्नोई जन पेड़ो से लिपटते गये और प्राणों की आहुति देते गये। आखिर मंत्री गिरधारी दास भण्डारी को पेड़ो की कटाई रोकनी पड़ी। ये तूफ़ान थमा तब तक कुल 363 बिश्नोईयों (71 महिलायें और 292 पुरूष) ने पेड़ की रक्षा में अपने प्राणों की आहूति दे दी। खेजड़ली की धरती बिश्नोईयों के बलिदानी रक्त से लाल हो गयी। यह मंगलवार 21 सितम्बर 1730 (भाद्रपद शुक्ल दशमी, विक्रम संवत 1787) का ऐतिहासिक दिन विश्व इतिहास में इस अनूठी घटना के लिये हमेशा याद किया जायेगा।

समूचे विश्व में पेड़ रक्षा में अपने प्राणों को उत्सर्ग कर देने की ऐसी कोई दूसरी घटना का विवरण नहीं मिलता है। इस घटना से राजा के मन को गहरा आघात लगा, उन्होंने बिश्नोईयों को ताम्रपत्र से सम्मानित करते हुए जोधपुर राज्य में पेड़ कटाई को प्रतिबंधित घोषित किया और इसके लिये दण्ड का प्रावधान किया। बिश्नोई समाज का यह बलिदानी कार्य आने वाली अनेक शताब्दियों तक पूरी दुनिया में प्रकृति प्रेमियों में नयी प्रेरणा और उत्साह का संचार करता रहेगा। बिश्नोई समाज आज भी अपने गुरू जांभोजी महाराज की 29 नियमों की सीख पर चलकर राजस्थान के रेगिस्तान में खेजड़ी के पेड़ों और वन्यजीवों की रक्षा कर रहा है।

विश्वपटल पर आज "ग्लोबल वार्मिंग" एक वैश्विक समस्या हैं। इस वैश्विक समस्या का समाधान पर्यावरण संरक्षण द्वारा संभव है। बिश्नोई समाज द्वारा खेजड़ली के बलिदान की घटना एवं पर्यावरण संरक्षण के प्रति समर्पण से प्रभावित होकर भारत के वर्तमान प्रधानमंत्री श्रीमान नरेंद्र मोदी द्वारा जोधपुर में आयोजित एक कार्यक्रम में बिश्नोई समाज की भूरी-भूरी प्रशंसा की।

मित्रों दिन प्रतिदिन पर्यावरण अनेकानेक कारणों से असंतुलित हो रहा है। ये हमारे लिये तथा आने वाली पीढियों के लिये खतरे की घंटी है। हमे इस सच्ची घटना से सीख लेकर जी-जान से पर्यावरण संतुलन में सहयोग करना चाहिये। जिससे हमारे पुर्वजों का अतुल्य बलिदान सार्थक बन सके।


 विनीत:- बिश्नोई मिरर



टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां